Hindi Shayari

50+ Ahmad Faraz Shayari In Hindi

Ahmad Faraz Shayari In Hindi – दोस्तों आज की पोस्ट में हम अहमद फराज की शायरी का बेहतरीन कलेक्शन लेकर आये है आपको यही बहुत पसंद आएगा, अहमद फराज साहब का जन्म 14 जनवरी 1931 को पाकिस्तान में हुआ था, अहमद फ़राज़ ने जब शायरी की शुरुआत की उस वक़्त उनका नाम अहमद शाह कोहाटी होता था, अहमद फ़राज़ की मातृभाषा पश्तो थी, लेकिन शरू से ही फ़राज़ को उर्दू लिखने और पढ़ने का शौक़ था,

Ahmed Faraz Shayari

Ahmad Faraz, अहमद फ़राज़, अहमद फ़राज़ शायरी, Ahmad Faraz Shayari In Hindi, Ahmad Faraz Status In Hindi, Ahmed Faraz Poetry Hindi, Ahmad Faraz Shayari On Life, Ahmad Faraz Ki Shayari, Ahmad Faraz Shayari On Love,

Bach Na Saka Khuda Bhi Muhabbat Ke Takaazon Se Faraz, Ek Mahboob Ki Khatir Sara Jahan Bana Dala.

बच न सका ख़ुदा भी मुहब्बत के तकाज़ों से फ़राज़, एक महबूब की खातिर सारा जहाँ बना डाला.

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ, आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ.

ranjish hee sahee dil hee dukhaane ke lie aa,aa phir se mujhe chhod ke jaane ke lie aa.

माना कि तुम गुफ़्तगू के फन में माहिर हो फ़राज़, वफ़ा के लफ्ज़ पे अटको तो हमें याद कर लेना.

Mana Ki Tum Guftgoo Ke Fan Mein Mahir Ho Faraz. Wafa Ke Lafz Pe Atako ToHumein Yaadn Kar Lena.

इन बारिशों से दोस्ती अच्छी नहीं फराज, कच्चा तेरा मकाँ है कुछ तो ख्याल कर।

In Baarishon Se Dosti Achchhi Nahi Faraz, Kachcha Tera Makaan Hai Kuchh To Khayal Kar.

2 line shayari of ahmad faraz

Aise Duba Hun,Teri Yaad Ke Samandar Me, “Faraz” Dil Ka Dhadakna Bbhi, Ab Tere Kadmon Ki Sda Laggti Hai.

मेरे सब्र की इन्तेहाँ क्या पूछते हो फ़राज़, वो मेरे सामने रो रहा है किसी और के लिए।

Mere Sabr Ki Intehaan Kya Poochhte Ho Faraz, Wo Mere Saamne Ro Raha Hai Kisi Aur Ke Liye.

फुर्सत मिले तो कभी हमें भी याद कर लेना फ़राज़, बड़ी पुर रौनक होती हैं यादें हम फकीरों की.

Fursat Mile To Kabhi Hamein Bhi Yaad Kar Lena Faraz, Badi Pur Raunak Hoti Hai Yaadein Hum Faqiron Ki.

ऐसा डूबा हूँ, तेरी याद के समंदर में “फ़राज़” दिल का धड़कना भी, अब तेरे कदमों की सदा लगती है.

Kaanch Ki Tarah Hote Hain Gareebon Ke Dil Faraz, Kabhi Tut Jaate Hain To Kabhi Tod Diye JaateHain.

कांच की तरह होते हैं गरीबों के दिल फ़राज़, कभी टूट जाते हैं तो कभी तोड़ दिए जाते हैं.

ahmad faraz poetry in hindi

इस तरह गौर से मत देख मेरा हाथ ऐ फ़राज़, इन लकीरों में हसरतों के सिवा कुछ भी नहीं.

Is Tarah Gaur Se Mat Dekh Mera Haath Ae Faraz, In Laqiron Mein Hasraton Ke Siwa Kuch Bhi Nahi.

तुम तकल्लुफ को भी इख्लास समझते हो फ़राज़, दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला।

Tum Takalluf Ko Bhi Ikhlaas Samjhte Ho Faraz, Dost Hota Nahi Har Haath Milaane Waala.

ahmad faraz love shayari

आँखों में हया हो तो पर्दा दिल का ही काफी है, नहीं तो नकाबों से भी होते हैं इशारे मोहब्बत के.

aankhon mein haya ho to parda dil ka hee kaaphee hai, nahin to nakaabon se bhee hote hain ishaare mohabbat ke.

तुम्हारी दुनिया में हम जैसे हजारों हैं “फ़राज़”, हम ही पागल थे जो तुम्हे पा के इतराने लगे.

Tumhari Duniya Me Ham Jaise Hazaron Hai “Faraz”, Hum Hi Pagal The Jo Tumhe Pa Ke Itraane Lage.

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जाना, फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते-जाते।

Kitna Aasaan Tha Tere Hijr Mein Marna Janaa, Fir Bhi Ek Umr Lagi Jaan Se Jaate Jaate.

अपने ही होते हैं जो दिल पे वार करते हैं फ़राज़, वरना गैरों को क्या ख़बर की दिल की जगह कौन सी है.

Apne Hi Hote Hai Jo Dil Pe Waar Karte Hai Faraz, Warna Gairon Ko Kya Khabar Ki Dil Ki Jagah Kaun Si Hai.

ahmad faraz famous hindi poetry

मेरे जज़्बात से वाकिफ है मेरा कलम फ़राज़, मैं प्यार लिखूं तो तेरा नाम लिख जाता है।

Mere Jazbaat Se Waqif Hai Mera Qalam Faraz, Main Pyaar Likhoon To Tera Naam Likh Jata Hai.

एक पल जो तुझे भूलने का सोचता हूँ फ़राज़, मेरी साँसें मेरी तकदीर से उलझ जाती हैं.

Ek Pal Jo Tujhe Bhoolane Ka Sochata Hun Faraz, Meri Saanse Meri Taqdir Se Ulajh Jati Hai.

वो शख्स जो कहता था तू न मिला तो मर जाऊंगा, वो आज भी जिंदा है यही बात किसी और से कहने के लिए.

Wo Shakhas Jo Kehta Tha Tu Na Mila To Marr Jaunga, Wo Aaj Bhi Zinda Hai Yahi Baat Kise Aur Se Kahne Ke Liye.

मोहब्बत के अंदाज़ जुदा होते हैं फ़राज़, किसी ने टूट के चाहा और कोई चाह के टूट गया.

Mohabbat Ke Andaz Juda Hote Hain Faraz, Kisi Ne Toot Ke Chaaha Aur Koi Chaah Ke Toot Gaya.

faraz shayari on zindagi

बच न सका ख़ुदा भी मुहब्बत के तकाज़ों से फ़राज़, एक महबूब की खातिर सारा जहाँ बना डाला.

Bach Na Saka Khuda Bhi Muhabbat Ke Takaazon Se Faraz, Ek Mahboob Ki Khatir Sara Jahan Bana Dala.

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें, जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें.

ab ke ham bichhade to shaayad kabhee khvaabon mein milen, jis tarah sookhe hue phool kitaabon mein milen.

एक नफरत ही नहीं दुनिया में दर्द का सबब फ़राज़, मोहब्बत भी सकूँ वालों को बड़ी तकलीफ़ देती है.

ek napharat hee nahin duniya mein dard ka sabab faraz, mohabbat bhee sakoon vaalon ko badee takaleef detee hai.

कोई मुन्तजिर है उसका कितनी शिद्दत से फ़राज़, वो जानता है मगर अनजान बना रहता है।

Koyi Muntazir Hai Uska Kitni Shiddat Se Faraz, Wo Janta Hai Magar Anjaan Bana Rehta Hai.

उस शख्स से बस इतना सा ताल्लुक़ है फ़राज़, वो परेशां हो तो हमें नींद नहीं आती.

Us Shakhs Se Bas Itna Sa Talluk Hai Faraz, Wo Pareshan Ho To Humein Neend Nahin Aati.

दीवार क्या गिरी मेरे कच्चे मकान की फ़राज़, लोगों ने मेरे घर से रास्ते बना लिए.

Deewar Kya Giri Mere Kachche Makan Ki Faraz, Logon Ne Mere Ghar Se Raste Bana Liye.

क्यों उलझता रहता है तू लोगों से फ़राज़, जरूरी तो नहीं वो चेहरा सभी को प्यारा लगे।

Kyu Ulajhta Rehta Hai Tu Logon Se Faraz, Jaruri To Nahi Wo Chehra Sabhi Ko Payara Lage.

इस दफा तो बारिशें रूकती ही नहीं फ़राज़, हमने आँसू क्या पिए सारे मौसम रो पड़े।

Iss Dafa To Barishein Rukti Hi Nahin Faraz, Humne Aansoo Kya Piye Saare Mausam Ro Pade.

ahmad faraz dard bhari shayari

एक नफरत ही नहीं दुनिया में दर्द का सबब फ़राज़, मोहब्बत भी सकूँ वालों को बड़ी तकलीफ़ देती है.

Ek Nafrat Hi Nahi Duniya Mein Dard Ka Sabab Faraz, Mohabbat Bhi Sakoon Walon Ko Badi Taklif Deti Hai.

लोग तो मजबूर हैं मरेंगे पत्थर, फ़राज़… क्यूँ न हम शीशों से कह दें टूटा न करें।

Log To Majboor Hain Maarenge Patthar,Faraz… Kyun Na Hum Sheeshon Se Keh Dein Toota Na Karein.

आने लगी थी उसकी ज़बीं पर शिकन फ़राज़, इज़हार-ए-इश्क़ करके मुकरना पड़ा मुझे।

Aane Lagi Thi Uski Jabeen Par Shikan Faraz, Izhaar-e-Ishq Karke Mukarna Pada Mujhe.

ahmad faraz sad shayari

वो रोज़ देखता है डूबे हुए सूरज को फ़राज़, काश मैं भी किसी शाम का मंज़र होता.

Wo Roz Dekhta Hai Dube Hue Suraj Ko Faraz, Kaash Main Bhi Kisi Sham Ka Manzar Hota.

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम, तू मुझसे खफा है तो ज़माने के लिए आ।

Kis-Kis Ko Bataynge Judai Ka Sabab Hum, Tu Mujhse Khafa Hai To Zamane Ke Liye Aa.

दोस्ती अपनी भी असर रखती है फ़राज़, बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो.

Dosti Apni Bhi Asar Rakhti Hai Faraz, Bahut Yaad Aayenge Jara Bhool Ke Dekho.

Final Words

मुझे पूरी उम्मीद है कि आप लोगों को Ahmad Faraz Shayari In Hindi की पोस्ट बहुत पसंद आयी होगी, इसके आलावा भी अगर वेबसाइट या ब्लॉग से संबधित कोई सुझाव या सलाह है। तो दे सकते है हम उसमे जरुँर सुधार करने की कोशिश करेंगे!

यह भी पढ़ें-

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button