Sad Shayari

Emotional Sad Shayari | इमोशनल सैड शायरी

We have published latest emotional Sad Shayari, emotional love shayari, emotional sad shayari in hindi, new emotional shayari and many more इमोशनल सैड शायरी at Shayariyaar.

You can share Emotional Sad Shayari with your loved ones, friends, on social media Facebook WhatsApp.

emotional Sad Shayari

तू जब से सनम कहीं और है
 यहां बस दर्द का दौर है.!! 
किस किसको हम
 अपने जख्म बताएंगे
 यह मतलबी दुनिया है साहब
 सब मिलकर सताएंगे.!! 
दुनिया बहुत जालिम है,
 यहां हर किसी से रिश्ता मत बनाना
 हर कोई मीठी मीठी बातें करता है
 और छोड़ जाता है बना के दीवाना.!! 
रहने दो मुझे दर्द-ए-इश्क में
 सुकून ऐ जिंदगी आशिकों को
 रास नहीं आती.!! 
चाहे कितना भी हंस लो खेल लो
 दुनिया के मेले में
 लेकिन जो दिल में बसा हो ना
 याद वही आता है अकेले में.!!
दिलों में बेइंतहा नफरत लिए
 बैठा रहा वह शख्स
 और कमबख्त खबर तब हुई
 जब इश्क में पूरे बर्बाद हो गए हो.!!
हर कदम सोच समझ कर रखो
 वरना कब कहां धोखा मिल जाए
 वक्त का कुछ पता नहीं.!!
लिखकर तनहाइयां मैं खुद नहीं रोता
 हां वह बात अलग है
 रात भर मैं खुद नहीं सोता.!!
अजनबी तो रास्ता भी सही बताते हैं
 यह करीब से जानने वाले ही
 अक्सर दर्द दे जाते हैं.!!
 चलो भुला दूंगा तुम्हें
 यह सोच कर कि
 तुम हमारे किस्मत में नहीं
 पर तुम्हारी यादों का क्या.!!
आज फिर एक शरारत
 मेरे साथ हो रही है
 शक की आग लगाकर
 वफा की बात हो रही है.!!
अपने अंदर दर्द को बस
 कुछ यू छुपा रहे हैं
 आंसू आंखों में रोककर
 जबरन मुस्कुरा रहे हैं.!!
अपनी तकलीफ को हम ऐसे जी लेते हैं
 दर्द जब हद से गुजर जाए
 तो सिगरेट पी लेते हैं.!!
उसकी राहों की हवाएं मुझे उसका हाल कहती है
 उसे ना देखने पर यह निगाहें कितना दर्द देती है.!!
हमारे भरोसे को तुमने इस तरह तोड़ा है
 मेरा दिल तोड़ कर मुझे
 कहीं का नहीं छोड़ा है.!!
दिल तोड़ना बड़े अच्छे से आता है
 उसे जब भी मिलता है
 सिर्फ जख्म ही देता है.!!
मुझसे ना पूछना किस हाल में हूं मैं
बात सीधी सी है बेहाल में हूं मैं.!!
जिंदगी तो कब की छोड़ गई हमें
 अपनी लाश लिए अब मौत की तलाश
 कर रहे हैं हम.!!
दर्द छुपाने का क्या हुनर दिखलाया है
आंसू छलका फिर भी
बदनाम प्याज बताया है.!!
बहुत अरसा हुआ तेरी गली से मैं गुजरी नहीं
 पर आज भी मैं तेरे घर का रास्ता भूली नहीं.!!
जिसमें दफन है कई जख्मों का दर्द
 वही एक खामोश समंदर हूं मैं.!!
जिसमें दफन है कई जख्मों का दर्द
 वही एक खामोश समंदर हूं मैं.!!
दिल में चोट हमें भी लगी थी लेकिन
 तुम्हारी खुशियों के लिए हमने
 तुम्हारे दिए सारे जख्मों को भुला दिया.!!
 बहुत अरसा हुआ तेरी गली से मैं गुजरी नहीं
 पर आज भी मैं तेरे घर का रास्ता भूली नहीं.!!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button