Type Here to Get Search Results !

Insult Shayari | बेइज्जती शायरी | insult status

Latest Collection Insult Shayari

Insult Shayari : आज की पोस्ट में बेइज्जती वाली शायरी, बेइज्जती इन्सल्ट शायरी, Insult Shayari Images, Ladki Insult Shayari, Insult Status, bezati status, gf insult status, insult status for boyfriend लेकर आया हु, आप insult status को कापी करके whatsapp facebook इन्स्ताग्राम पर पोस्ट कर सकते है.

    insult statut, attitude insult status for whatsapp in hindi, Insult Shayar, बेइज्जती  शायरी, bezati status, insult status for boyfriend, insulting status for ex boyfriend, insult whatsapp status, insult status for girlfriend, insulting status for ex girlfriend,status for insulting someone, bezati wale status, gf insult status,

    Insult Status Hindi

    बार बार आंसू साफ कीजिए, बेज्जती करता रहूंगा, आप बस थोड़ा बात कीजिए..

    Dil Ki Tamanna Hai Ke Main Bhi, Apni Palko Pe Bithhaun Tujhko, Bas Tu Apna Wajan Kam Kar Le, Toh Palkon Par Bithh Lun Tujhko.

    भोकना और चिल्लाना कुत्तों का काम है, हम तो बेज्जती भी इज्ज़त से करते है।

    Itna Khubsurat Kaise Muskura Lete Ho, Itna Qatil Kaise Sharma Lete Ho, Kitni Aasani Se Jaan Le Lete Ho, Kisi Ne Sikhaya Hai, - Ya Bachpan Se Hi Kamine Ho-?

    बेज्जती को लेकर चलता हू, मै अकेले इस सड़क पर, और हमेशा वक़्त कहता आए रहा है, किसी के लिए भी अच्छा मत करो।

    Kya Mast Mausam Aaya Hai, Har Taraf Pani Hi Pani Laya Hai, Tum Ghar Se Baahar Mat Niklna, Varna Log Kahenge Barsat Hui Nahi, Aur Mendhak Nikal Aaya Hai..

    Best Insult Shayari

    आसमान जितना नीला है, सूरजमुखी जितना पीला है, पानी जितना 💧गीला है, आपका स्क्रू उतना ही 🔧 ढीला है।

    Iss Dil Ko Toh Ek Baar Ko, Bahla Kar Chup Kara Lunga, Par Iss Dimaag Ka Kya Karun, Jiska Tumne Dahi Kar Diya Hai...

    इस 💗 को तो एक बार को, बहला कर चुप करा लूँगा, पर इस दिमाग का क्या करूँ, जिसका तुमने दही कर दिया है।

    Aasmaan Jitna Neela Hai, SurajMukhi Jitna Peela Hai, Paani Jitna Geela Hai, Aapka Screw Utna Hi Dheela Hai..

    Insult Shayari in Hindi for Friend 

    क्या मस्त मौसम आया है, हर तरफ पानी ही पानी लाया है, तुम घर से बाहर मत निकलना, वर्ना लोग कहेंगे बरसात हुई नहीं और मेंढक 👾 निकल आया है।

    दिल की तमन्ना है,  कि मैं भी अपनी पलकों पे बैठाऊं तुझको, बस तू अपना वजन कम कर ले, जिससे ये काम आसान लगे मुझकों.

    इस दिल को तो एक बार बहला कर चुप करा लिया हैं, पर इस दिमाग का क्या करूँ, जिसका तुमने दही बना दिया हैं.

    चाँद से रौशनी ज्यादा, और सितारों से कम निकले, जब भी मैं तुझे देखूँ, मेरा हँस-हँस के दम निकले.

    पानी आने की बात करते हो, दिल जलाने की बात करते हो, चार दिन से मुहँ नही धोया, तुम नहाने की बात करते हो.

    तारीफ़ के काबिल हम कहाँ, चर्चा तो आपकी चलती हैं, सब कुछ तो हैं आपके पास, बस सींग और पूंछ की कमी खलती हैं.

    Top Post Ad