Type Here to Get Search Results !

Gulzar Shayaris | Gulzar Ki Shayari | गुलज़ार साहब की शायरी

0

Most Poupler Gulzar Shayari In Hindi

Gulzar Shayari in Hindi : हेल्लो दोस्तों आज हम आपके लिए गुलज़ार साहब की शायरी लेकर आये है.  Gulzar sahab एक महान लेखक हैं. उनके द्वारा लिखी लोकप्रिय शायरिया आपको बहुत पसंद आएँगी। आप  Gulzar Ki Shayari, gulzar shayaris, Gulzar sahab ki shayari, Gulzar Sahab Shayari, को FACEBOOK  INSTGRAM WHATS APP पर शेयर कर सकते है.

Gulzar Shayari in Hindi, गुलज़ार साहब, गुलज़ार साहब की शायरी, Gulzar sahab,Gulzar Ki Shayari, Gulzar Quotes On Life, Gulzar Quotes Hindi, Gulzar Shayari Image,
Gulzar Shayari in Hindi

Best Shayari Of Gulzar On Love

बेशूमार मोहब्बत होगी उस बारिश  की बूँद💧 को इस ज़मीन से, यूँ ही नहीं कोई मोहब्बत मे इतना गिर जाता है!

तकलीफ खुद ही कम हो गई, जब अपनों से उम्मीदें कम हो गई !

कभी ज़िन्दगी एक पल में गुज़र झाती है,कभी ज़िन्दगी का एक पल नहीं गुज़रता !

खता उनकी भी नहीं यारो वो भी क्या करते, बहुत चाहने वाले थे किस किस से वफ़ा करते !

 मोहब्बत आपनी जगह, नफरत अपनी जगह, मुझे दोनो है तुमसे...

वफा की उम्मीद ना करो उन लोगों से, जो मिलते हैं किसी और से  होते है किसी और के.....!

हम अपनों से परखे गए हैं कुछ गैरों की तरह, हर कोई बदलता ही गया हमें शहरों की तरह......!

शाम से आँख में नमी सी है, आज फिर आप की कमी सी है..

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते, वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते..

आप के बाद हर घड़ी हम ने, आप के साथ ही गुज़ारी है..

मुझसे तुम बस मोहब्बत कर लिया करो, नखरे करने में वैसे भी तुम्हारा कोई जवाब नहीं..

मैं हर रात सारी ख्वाहिशों को खुद से पहले सुला देता हूँ, मगर रोज़ सुबह ये मुझसे पहले जाग जाती है।

तजुर्बा कहता है रिश्तों में फैसला रखिए, ज्यादा नजदीकियां अक्सर दर्द दे जाती है...

Post a Comment

0 Comments